सोचता रहता हूँ ख्यालों में अक्सर

सोचता रहता हूँ ख्यालों में मै अक्सर
ये मुहब्बत ये जुदाई बेवजह तो नहीं होती होगी ना

जिसे दिल ने दिल में बसाया हो

जिसे दिल ने दिल में बसाया हो
उसे सोचने के बाद कुछ सोचा नहीं जाता
हक़ीक़त है मगर ये भी
मुकम्मल न हो प्यार तो कोई दूजा नहीं जाता