मंजिल वही रहती है बस सफर बदल जाते हैं

मंजिल वही रहती है बस सफर बदल जाते हैं

मुहब्बत भरी दुनिया मे हमसफर बदल जाते हैं

आरजू होती है तुझमे खो जाने की

बेवफा तुम ना हो जाओ कहींं.ये सोच ख्यालात बदल जाते है

No comments:

Post a Comment