चाहत मे तेरी मै जिंदगी सँवार दुँ

चाहत मे तेरी मै जिंदगी सँवार दुँ
जितना किसी ने ना दिया वो मै प्यार दुँ
खुदा के बेमिशाल कारीगरी का तोहफा हो तुम
फिर क्युँ ना तेरी जिंदगी मे सारी दुनिया वार दुँ

No comments:

Post a Comment