तमन्ना होती है तुम्हें हमसफर बना लुँ

तमन्ना होती है तुम्हे हमसफर बना लुँ

दुनिया की नजरो से तुझ को बचा लुँ

कर के एलान हाँ मुहब्बत है तुमसे

सारी दुनिया से कहकर खुद मे छुपा लुँ

भुल कर दुनिया की रश्म-ओ-रिवाज

तेरी झील से आँखो मे खो जाउँ आज

तेरी सादगी मे कुछ ऐसा कर जाऊँ

तुम मेरी गजल बनो मै तेरा शायर बन जाऊँ

तुम मेरी गजल बनो मै तेरा शायर बन जाउँ

No comments:

Post a Comment