साँस क्या है मै तो दिल मे बसाउँगा तुम्हें


साँस क्या है मै तो दिल मे बसाउँगा तुम्हे..
जिगर के रास्ते धङकन मे बसाउँगा तुम्हे..
मालुम है हमे भी ये दुनिया बङी बेरहम है..
दुनिया से लङ लुँगा मगर जान बनाऊँगा तुम्हे ।

No comments:

Post a Comment